SURGUJA SAMBHAG: आयुष्मान कार्ड गीता के लिए हुई वरदान सिद्ध, पथरी से मिली निजात, मिला नया जीवन  

बलरामपुर: आयुष्मान कार्ड से अब आमजनों को गंभीर बीमारियों का ईलाज करवाने में बड़ी सहायता मिल रही है। जिले के निवासियों को भी आयुष्मान कार्ड का लाभ मिल रहा है। आर्थिक रूप से कमजोर व्यक्ति जो गंभीर बीमारियों का ईलाज करवाने में असक्षम होता है उसके लिए आयुष्मान कार्ड वरदान साबित हो रही है। इस योजना का लाभ लेते हुए विकासखण्ड रामचन्द्रपुर अंतर्गत ग्राम धरमी निवासी 32 वर्षीय श्रीमती गीता यादव ने  पथरी का सफल ऑपरेशन कराया। ऑपरेशन के बाद उन्हें पीड़ा से निजात मिल गई है। जिला अस्पताल के सिविल सर्जन डॉ. रामेश्वर शर्मा ने बताया कि 4 मार्च को गीता यादव को प्रारंभिक जांच कर अस्पताल में भर्ती कराया गया जांच में पाया गया की उनकी पित्त की थैली में पथरी है और इसके उपचार के लिए ऑपरेशन करना जरूरी है। तत्पश्चात् 5 मार्च को सिविल सर्जन, अन्य सर्जन और विशेषज्ञों की टीम ने गीता यादव का ऑपरेशन किया। अब वे पहले से बेहतर है। उनके पति श्री दयाशंकर यादव ने बताया कि उनकी पत्नी लम्बे समय से पेट दर्द की समस्या से पीड़ित थी। पिछले 4 साल से पित्त की थैली में पथरी था तथा जड़ी बूटी व आयुर्वेदिक दवाई से आराम न मिलने पर उन्होंने अपनी पत्नी को जिला अस्पताल बलरामपुर में उपचार करवाने ले गया। उनके पति कहते हैं कि मैं खेती बाड़ी कर अपना घर चलाता हूं। निजी अस्पताल में इलाज करवाने पर बहुत खर्च बता रहे थे। आर्थिक स्थिति ठीक नहीं होने के कारण उक्त राशि वहन करने की स्थिति में नहीं था तब चिकित्सकों द्वारा आयुष्मान भारत प्रधानमंत्री जन आरोग्य योजना अंतर्गत निःशुल्क सफल ऑपरेशन के बारे में बताया गया। और आयुष्मान कार्ड से बिना पैसे के मेरी पत्नी का सफल ऑपरेशन किया गया। उन्होंने ऐसी जनकल्याणकारी योजना के लिए प्रधानमंत्री श्री नरेन्द्र मोदी और मुख्यमंत्री श्री विष्णु देव साय को धन्यवाद दिया।

इसे भी पढ़ें:  AMBIKAPUR: राष्ट्रीय मानसिक स्वास्थ्य कार्यक्रम टीम ने लर्निंग थ्रू एक्टिविटी के माध्यम से परीक्षा के तनाव को कम करने छात्र-छात्राओं को दिए टिप्स........ तनाव प्रबंधन पर शासकीय उच्चतर माध्यमिक विद्यालय रामपुर में कार्यशाला का आयोजन

नागरिकों को 5 लाख रुपए तक मुफ्त इलाज की सुविधा


आयुष्मान कार्ड के तहत आर्थिक रूप से कमजोर नागरिकों को 5 लाख रुपए तक मुफ्त इलाज की सुविधा प्रदान की जाती है। प्रत्येक पात्र परिवार को प्रतिवर्ष 5 लाख रुपये तक के निःशुल्क उपचार की सुविधा ले सकते हैं। वे योजना से संबद्ध देशभर के किसी भी चिन्हित सरकारी या निजी अस्पताल में मुफ्त इलाज की सुविधा का लाभ उठा सकेंगे। योजना के तहत अस्पताल में भर्ती होने की स्थिति में गंभीर बीमारियों का निशुल्क उपचार इस योजना के तहत किया जायेगा।

क्या आपने इसे पढ़ा:

error: Content is protected !!