Anemia Mukt Surguja: सरगुजा को एनीमिया मुक्त बनाने का सपना जल्द होगा साकार……… गर्भवती व शिशुवती माताओं को एनीमिया से बचाने के लिए चलाया जाएगा एनीमिया मुक्त सरगुजा अभियान

दोस्तों के साथ इस समाचार को शेयर करें:

मुख्यमंत्री सुपोषण अभियान अंतर्गत जिले के गर्भवती महिलाओं व शिशुवती माताओं को एनीमिया जैसी गंभीर बीमारियों से मुक्ति दिलाने के लिए एनीमिया मुक्त सरगुज़ा अभियान चलाया जाएगा। कलेक्टर श्री कुन्दन कुमार के मार्गदर्शन में चलाए जाने वाले इस अभियान के लिए स्वास्थ्य विभाग द्वारा गर्भवती महिलाओं व शिशुवती माताओं के सर्वे के लिए डिसेन्ट्रलाइज डिजिटलाइजेशन ट्रैकिंग का उपयोग किया जाएगा।

कलेक्टर श्री कुंदन कुमार की अध्यक्षता में स्थानीय कलेक्टोरेट सभागार में स्वास्थ्य विभाग एवं महिला एवं बाल विकास विभाग के अधिकारियों के कार्यों की समीक्षा करते हुए कहा कि सरगुजा को एनीमिया मुक्त बनाने के लिए आप सभी को ग्राउंड स्तर पर जाकर कार्य करने की जरूरत हैं। उन्होंने कहा कि एनीमिया मुक्त सरगुजा बनाने में मितानिन आंगनबाड़ी कार्यकर्ता जिला मितानिन समन्वयक का महत्वपूर्ण योगदान रहेगा क्योंकि एनीमिया के ज्यादातर मरीज ग्रामीण महिलाएं होती है इसलिए हमें सबसे ज्यादा ग्रामीण क्षेत्रां में मेहनत करने की जरूरत है तभी हम सरगुजा को एनीमिया मुक्त सरगुजा बनाने का सपना साकार कर पाएंगे और मुझे पूरा विश्वास है कि हम सब मिलकर जल्द ही सरगुजा को एनीमिया मुक्त बनाने का साकार कर लेंगे। आप को किसी भी मदद की जरूरत हो तो बेझिझक बता सकते हैं।

बैठक में कलेक्टर ने गर्भावस्था के दौरान महिलाओं में एनीमिया जैसी गंभीर बीमारी की शिकायत पर चिंता व्यक्त करते हुए जिले के समस्त गर्भवती एवं शिशुवती महिलाओं में एनीमिया रोग के रोकथाम हेतु वृहद कार्ययोजना बनाने के निर्देश दिए। उन्होंने जटिल प्रसव में कमी, प्रसव उपरांत महिला का उचित देखभाल, बच्चों में कुपोषण को कम करने हेतु अंतर्विभागीय कोर कमेटी बनाने के निर्देश दिये। इस कमेटी का मुख्य कार्य अंतर्विभागीय समन्वय स्थापित कर वृहद कार्य योजना बनाकर जिला सरगुजा को एनीमिया मुक्त सरगुजा बनाने का उद्देश्य रखा गया है। एनीमिया मुक्त सरगुजा के नोडल अधिकारी जिला पंचायत सरगुजा तथा सहायक नोडल अधिकारी का कार्य नगर निगम आयुक्त के द्वारा किया जाएगा एवं इसके सदस्य मुख्य चिकित्सा एवं स्वास्थ्य अधिकारी, जिला कार्यक्रम अधिकारी महिला एवं बाल विकास विभाग, समस्त सी.डी.पी.आ. समस्त बी.एम.ओ. सदस्य नियुक्त किये गये हैं। स्वास्थ्य सुविधा एवं संपूर्ण जांच मुख्य चिकित्सा एवं स्वास्थ्य अधिकारी तथा पोषण आहार संबंधित कार्य महिला एवं बाल विकास अधिकारी द्वारा संबंधित विभाग के माध्यम से किये जायेंगें। इस कार्य के लिए छः प्रमुख बिंदुओं पर कार्य किया जाएगा। शत् प्रतिशत् गर्भवती का प्रथम त्रैमास पंजीयन, गुणवत्ता पूर्वक प्रसव पूर्व जांच, गर्भवती महिलाओं में एनीमिया का उपचार, नियमित निगरानी, रेफरल सेवाओं की सुनिश्चितता, कठिन क्षेत्रों में स्वास्थ्य सुविधाओं का सुदृढीकरण शामिल हैं।

इसे भी पढ़ें:  International Women’s Day 2022: छत्तीसगढ़ की दो टीकाकरण कर्मियों को अंतर्राष्ट्रीय महिला दिवस पर राष्ट्रीय स्तर पर मिला सम्मान

एनीमिया  मुक्त सरगुजा के अंतर्गत सभी गर्भवती तथा शिशुवती महिलाओं की जानकारी मितानिन एवं आंगनबाड़ी कार्यकर्ता के द्वारा एकत्र कर एप के माध्यम से संकलित कर एनीमिया की पहचान, महिलाओं की संपूर्ण जांच, एनीमिया का उपचार गर्म व पोषित भोजन की व्यवस्था, आवश्यकता पड़ने पर रेफरल की सुविधा सुरक्षित प्रसव, संपूर्ण टीकाकरण तथा जागरूकता के कार्य कर एनीमिया  में कमी लाई जाएगी। इस कार्यक्रम के अंतर्गत विकासखण्ड स्तर पर राजस्व विभाग, पंचायत विभाग, स्वास्थ्य विभाग, महिला बाल विकास विभाग, मितानिन शिक्षा विभाग द्वारा अंतर्विभागीय समन्वय कर सर्वे का कार्य हितग्राहियों की पहचान, निगरानी समिति का कार्य इत्यादि किये जायेगें।

अम्बिकापुरसिटी.कॉम: हमारे व्हाट्सप्प ग्रुप को ज्वाइन करें | हमारे टेलीग्राम ग्रुप को ज्वाइन करें | ट्विटर पर हमें फॉलो करें | हमारे फेसबुक ग्रुप को ज्वाइन करें | हमारे फेसबुक पेज को लाइक करें |

 

इसे भी पढ़ें