PANCHANG: 01 दिसंबर 2023 का पंचांग………कब है मोक्षदा एकादशी?…….. जानें- शुभ मुहूर्त, तिथि, पूजा विधि एवं महत्व……….पंचांग पढ़कर करें दिन की शुरुआत

पंचांग का दर्शन, अध्ययन व मनन आवश्यक है। शुभ व अशुभ समय का ज्ञान भी इसी से होता है। अभिजीत मुहूर्त का समय सबसे बेहतर होता है। इस शुभ समय में कोई भी कार्य प्रारंभ कर सकते हैं।

आज मार्गशीर्ष माह कृष्ण पक्ष की चतुर्थी है व पुनर्वसु नक्षत्र है। आज शुक्रवार है। आज राहुकाल 10:25 से 11:46 तक हैं। इस समय कोई भी शुभ कार्य करने से परहेज करें।

आज का पंचांग (अंबिकापुर)

दिनांक01 दिसंबर 2023
दिवसशुक्रवार
माहमार्गशीर्ष
पक्षकृष्ण पक्ष
तिथिचतुर्थी
सूर्योदय06:22:32
सूर्यास्त17:09:35
करणबालव
नक्षत्रपुनर्वसु
सूर्य राशिवृश्चिक
चन्द्र राशिमिथुन

मुहूर्त (अंबिकापुर)

शुभ मुहूर्त- अभिजीत 11:24 से 12:08 तक
राहुकाल 10:25 से 11:46 तक

हर वर्ष मार्गशीर्ष माह के शुक्ल पक्ष की एकादशी तिथि को मोक्षदा एकादशी मनाई जाती है। तदनुसार, इस वर्ष 22 वर्ष को मोक्षदा एकादशी है। इस दिन भगवान विष्णु और धन की देवी मां लक्ष्मी की विशेष पूजा-अर्चना की जाती है। धार्मिक मान्यता है कि मोक्षदा एकादशी करने से साधक के पितरों को मोक्ष की प्राप्ति होती है। साथ ही घर में सुख, समृद्धि एवं खुशहाली का आगमन होता है। अगर आप भी भगवान विष्णु की कृपा के भागी बनना चाहते हैं, तो मोक्षदा एकादशी तिथि पर विधि-विधान से भगवान विष्णु की पूजा करें। आइए, शुभ मुहूर्त, पूजा विधि एवं महत्व जानते हैं-

शुभ मुहूर्त

पंचांग के अनुसार, मार्गशीर्ष माह के शुक्ल पक्ष की एकादशी तिथि 22 दिसंबर को सुबह 08 बजकर 16 मिनट पर शुरू होगी और 23 दिसंबर को सुबह 07 बजे समाप्त होगी। सनातन धर्म में उदया तिथि मान है। अतः 22 दिसंबर को मोक्षदा एकादशी मनाई जाएगी।

इसे भी पढ़ें:  CBSE BORAD EXAM 2023-24: सीबीएसई ने खत्म की 'परंपरा'...........अब 10वीं-12वीं रिजल्ट में नहीं मिलेगा डिवीजन

पूजा विधि

मोक्षदा एकादशी के दिन ब्रह्म बेला में उठकर घर की साफ-सफाई करें। दैनिक कार्यों से निवृत्त होने के बाद गंगाजल युक्त पानी से स्नान करें। अगर सुविधा है, तो गंगा समेत पवित्र नदी में स्नान करें। इस समय आचमन कर व्रत संकल्प लें और पीले वस्त्र धारण करें। अब तिलांजलि करें। इसके लिए हथेली में तिल और जल लेकर सूर्य देव को अर्घ्य दें। साथ ही बहती जलधारा में तिल प्रवाहित करें। इसके बाद पंचोपचार कर विधि-विधान से भगवान विष्णु की पूजा करें। भगवान विष्णु को पीले रंग का फूल, फूल, चंदन, तिल, जौ, अक्षत, दूर्वा आदि अर्पित करें। इस समय पवित्र ग्रंथ गीता के एक अध्याय का अध्ययन और श्रवण करें। अंत में आरती कर सुख, समृद्धि और पूर्वजों को मोक्ष प्राप्ति हेतु कामना करें। दिन भर उपवास रखें। संध्याकाल में आरती कर फलाहार करें। विशेष कार्य में सफलता प्राप्ति हेतु निर्जला उपवास भी रख सकते हैं।

'इस लेख में निहित जानकारी को विभिन्न माध्यमों से संग्रहित कर आप तक पहुंचाई गई हैं। हमारा उद्देश्य महज सूचना पहुंचाना है इसके अतिरिक्त, इसके किसी भी उपयोग की जिम्मेदारी स्वयं उपयोगकर्ता की ही रहेगी।' 

क्या आपने इसे पढ़ा:

error: Content is protected !!