DARK WEB: सावधान! इस कंपनी के करोड़ों ग्राहकों का डाटा लीक………. जानें क्या है डार्क वेब और आप कैसे रहें सुरक्षित

कुछ दिन पहले AT&T कंपनी ने बताया कि उनके करीब 7 करोड़ 30 लाख ग्राहकों की निजी जानकारी लीक हो गई है, जिसमें उनके सामाजिक सुरक्षा नंबर भी शामिल हैं. ये जानकारी एक गुप्त ऑनलाइन जगह (डार्क वेब) पर मिली है. अभी तक पता नहीं चल पाया है कि ये जानकारी कंपनी के अंदर से लीक हुई है या किसी पार्टनर कंपनी से.

मुख्य बातें:

लीक हुई जानकारी शायद 2019 या उससे पहले की है और इससे करीब 76 लाख मौजूदा और 654 लाख पूर्व ग्राहक प्रभावित हुए हैं.

लीक हुई जानकारी में सामाजिक सुरक्षा नंबर के अलावा, पते, फोन नंबर और जन्मदिन जैसी चीज़ें शामिल हैं.

अटै&टी का कहना है कि उनके सिस्टम में किसी बाहरी व्यक्ति ने घुसपैठ नहीं की है और इस लीक से कंपनी के कामकाज पर कोई खास असर नहीं पड़ा है.

कंपनी ने लीक के बाद लाखों ग्राहकों के पासवर्ड बदल दिए हैं.

जिन ग्राहकों की जानकारी लीक हुई है, उनसे अटै&टी संपर्क करेगी और जरूरत के हिसाब से उन्हें कुछ मुआवजा भी देगी.

डार्क वेब क्या है?

डार्क वेब इंटरनेट का एक हिस्सा है जो सामान्य खोज इंजनों द्वारा अनुक्रमित नहीं होता है. इसे एक्सेस करने के लिए आपको विशेष सॉफ्टवेयर और टूल्स की आवश्यकता होती है. डार्क वेब का उपयोग अक्सर गुमनाम गतिविधियों के लिए किया जाता है, जैसे कि अवैध गतिविधियों, गोपनीय संचार और गोपनीय जानकारी साझा करना.

डार्क वेब पर क्या होता है?

डार्क वेब पर कई तरह की गतिविधियाँ होती हैं, जिनमें शामिल हैं:

  • अवैध गतिविधियां: डार्क वेब का उपयोग अक्सर ड्रग्स, हथियार और चोरी की गई जानकारी जैसे अवैध वस्तुओं और सेवाओं को खरीदने और बेचने के लिए किया जाता है.
  • गोपनीय संचार: डार्क वेब का उपयोग उन लोगों द्वारा किया जाता है जो अपनी पहचान गुप्त रखना चाहते हैं, जैसे कि पत्रकार, कार्यकर्ता और सरकारों से बचने वाले लोग.
  • गोपनीय जानकारी साझा करना: डार्क वेब का उपयोग उन लोगों द्वारा किया जाता है जो गोपनीय जानकारी साझा करना चाहते हैं, जैसे कि व्हिसलब्लोअर्स और खुफिया एजेंसियां
इसे भी पढ़ें:  PANCHANG: 31 मार्च 2024 का पंचांग- आज का दिन भगवान सूर्य की पूजा के लिए समर्पित, पंचांग पढ़कर करें दिन की शुरुआत

.डार्क वेब सुरक्षित है?

डार्क वेब का उपयोग करना खतरनाक हो सकता है. डार्क वेब पर कई तरह के खतरे हैं, जिनमें शामिल हैं:

  • मालवेयर: डार्क वेब पर कई तरह के मैलवेयर मौजूद हैं जो आपके कंप्यूटर को संक्रमित कर सकते हैं और आपकी व्यक्तिगत जानकारी चुरा सकते हैं
  • .घोटाले: डार्क वेब पर कई तरह के घोटाले मौजूद हैं जो आपको पैसे या व्यक्तिगत जानकारी से वंचित कर सकते हैं
  • .हिंसा: डार्क वेब पर हिंसा और अपराध से जुड़ी कई तरह की गतिविधियां होती हैं

.डार्क वेब पर सुरक्षित रहने के लिए कुछ सुझाव:

  • डार्क वेब का उपयोग न करें: यदि आपको डार्क वेब का उपयोग करने की आवश्यकता नहीं है, तो इसका उपयोग न करें
  • .सुरक्षित सॉफ्टवेयर और टूल्स का उपयोग करें: डार्क वेब का उपयोग करते समय, एक विश्वसनीय VPN और एंटी-वायरस सॉफ़्टवेयर का उपयोग करें
  • .अपनी व्यक्तिगत जानकारी साझा न करें: डार्क वेब पर अपनी व्यक्तिगत जानकारी, जैसे कि अपना नाम, पता या फोन नंबर, साझा न करें
  • .सावधान रहें: डार्क वेब पर होने वाली गतिविधियों के बारे में सावधान रहें और किसी भी संदिग्ध गतिविधि से दूर रहें

.यदि आप डार्क वेब का उपयोग करते हैं, तो आपको इन खतरों से अवगत रहना चाहिए और अपनी सुरक्षा के लिए कदम उठाने चाहिए.

क्या आपने इसे पढ़ा:

error: Content is protected !!