July 18, 2024 2:04 am

Amazing Coincidence: इस राज्य की जुड़वां बहनों को 10th और 12th की बोर्ड परीक्षाओ में मिले एक बराबर नंबर! रिजल्ट देखकर दंग रह गए लोग

कर्नाटक के हासन की रहने वाली जुड़वां बहनें, चूक्की और इब्बानी चंद्र केवी, भले ही दो मिनट के अंतराल पर पैदा हुई हों, लेकिन भाग्य ने उनके परीक्षा परिणामों में भी एक अद्भुत जुड़ाव दिखाया. एक दुर्लभ घटनाक्रम में, दोनों बहनों ने अपनी 12वीं कक्षा की PUC परीक्षा में बिल्कुल समान अंक (571/600) प्राप्त किए, जिसके परिणाम बुधवार को घोषित किए गए.

लेकिन यह सब नहीं है. दो साल पहले, उन्होंने अपनी 10वीं (SSLC) परीक्षा में भी समान अंक (620/625) प्राप्त किए थे. चूक्की ने कहा “यह एक संयोग है. हमें भी नहीं पता कि हमें समान अंक कैसे मिले. हम दोनों को 97 प्रतिशत से अधिक अंक की उम्मीद थी, जो हमें मिले उससे थोड़ा अधिक. लेकिन सबसे रोमांचक बात यह है कि हम दोनों को बिल्कुल समान प्रतिशत मिला.”

चूक्की ने बताया कि वे अब अपनी NEET परीक्षा की तैयारी कर रही हैं. दोनों बहनें अपनी आगे की पढ़ाई के लिए मेडिसिन या इंजीनियरिंग में से एक क्षेत्र चुनना चाहती हैं, और दोनों की महत्वाकांक्षा समान है. दोनों बहनों को संगीत, नृत्य और खेल में समान रुचि है.

जुड़वां बहनों ने हासन के NDRK PU कॉलेज में विज्ञान विषय लिया था. जब उनसे पूछा गया कि मेडिसिन या इंजीनियरिंग के किस क्षेत्र में उनकी रुचि है, तो चूक्की ने जवाब दिया, “मैंने अभी तक कुछ भी तय नहीं किया है. हम दोनों जानती हैं कि हमें NEET परीक्षा पास करनी है और हमारी सारी ऊर्जा इसी पर केंद्रित है.”

जब इब्बानी, छोटी जुड़वां बहन से पूछा गया कि क्या दोनों बहनें एक-दूसरे से प्रतिस्पर्धा करती हैं, तो उसने कहा, “अगर मेरी बहन को मुझसे ज्यादा अंक मिलते हैं, तो मुझे सबसे ज्यादा खुशी होगी, और मेरे साथ भी ऐसा ही है. हम प्रतिस्पर्धा नहीं करती हैं.”

इसे भी पढ़ें:  RASHIFAL: 12 अप्रैल 2024 का राशिफल......... जाने कैसा रहेगा आज का दिन और किस राशि की चमकेगी किस्मत

उनके पिता, विनोद चंद्र, इस संयोग से खुद काफी हैरान थे, लेकिन अपनी बेटियों के प्रदर्शन पर बेहद गर्व करते हैं. उन्होंने बताया कि कैसे दोनों बहनों के अंतिम अंक समान हो सकते हैं, लेकिन विभिन्न विषयों में उनके अंक अलग-अलग थे. उन्होंने कहा- “इब्बानी ने अपनी बहन की तुलना में भाषाओं में बेहतर स्कोर किया, जबकि दोनों के अन्य विज्ञान विषयों में एक से दो अंकों का अंतर था.”

चंद्र ने मुस्कुराते हुए कहा- “उन्होंने अपनी परीक्षा के लिए कड़ी मेहनत की है, हालांकि हम जानते हैं कि उन्हें दो से तीन प्रतिशत अधिक अंकों की उम्मीद थी. वे एक साथ काम करती हैं, एक-दूसरे की कंपनी का आनंद लेती हैं, पढ़ाई में अच्छी हैं लेकिन आप उन्हें किताबी कीड़ा नहीं कह सकते,”

क्या आपने इसे पढ़ा:

error: Content is protected !!