ASTROLOGY TIPS : आपको मंगलवार को कभी ऋण क्यों नहीं लेना चाहिए? …… यहां जानें मंगल ग्रह को कैसे करें शांत?

मंगलवार के दिन मंगल ग्रह की पूजा का विधान है। यह स्वभाव से अत्यंत कठोर और क्रूर ग्रह माना जाता है। मंगल हमेशा अपने शत्रुओं के लिए खतरा बना रहता है साथ ही यह अपने क्रूर व्यवहार के लिए जाना जाता है। ज्योतिष शास्त्र के अनुसार जिन लोगों की कुंडली में मंगल मजबूत होता है वे अच्छे प्रॉपर्टी डीलर अधिकारी सर्जन और सैनिक बनते हैं।

मंगलवार का स्वामी ग्रह मंगल है, इसलिए इसी दिन मंगल की पूजा का विधान है। इस दिन को लेकर ज्योतिष शास्त्र में काफी कुछ बताया गया है। मंगल ग्रह को धरतीपुत्र या पृथ्वी के पुत्र के रूप में जाना जाता है। यह स्वभाव से अत्यंत कठोर और क्रूर ग्रह माना जाता है। मंगल हमेशा अपने शत्रुओं के लिए खतरा बना रहता है, साथ ही यह अपने क्रूर व्यवहार के लिए जाना जाता है।

ज्योतिष शास्त्र के अनुसार, जिन लोगों की कुंडली में मंगल मजबूत होता है, वे अच्छे प्रॉपर्टी डीलर, अधिकारी, सर्जन और सैनिक बनते हैं।

मंगलवार को कर्ज क्यों नहीं लेना चाहिए?


मंगलवार का स्वामी ग्रह मंगल है। ज्योतिष शास्त्र के अनुसार, यह दिन उधार लेने के लिए अत्यंत अशुभ दिन है। ऐसा कहा जाता है कि मंगलवार को लिए गए कर्ज को चुकाने में कई साल लग जाते हैं, हालांकि, अगर किसी को कर्ज की पूरी रकम चुकानी है, तो मंगलवार अच्छा दिन है। इस दिन नए कपड़े पहनने से भी बचना चाहिए।

मंगल ग्रह को कैसे शांत करें?


मंगल ग्रह को शांत करने के लिए तांबे धातु का दान करना चाहिए। यदि मंगल की महादशा या अंतर्दशा चल रही हो, तो लाल मूंगा धारण करना लाभकारी होता है। यह उन लोगों को करना चाहिए, जिनकी कुंडली में मंगल ग्रह कमजोर है।

इसे भी पढ़ें:  BANK FD RATES: एफडी कराने वाले ग्राहकों को मिला शानदार गिफ्ट ....... SBI समेत इन बैंकों ने अपने ग्राहक को दिया न्यू ईयर गिफ्ट ....... बढ़ाई एफडी पर ब्याज दरें

वहीं कुंडली में मंगल ग्रह नकारात्मक स्थान पर हो, तो लाल मूंगा धारण करने से बचना चाहिए। ध्यान रहे कि किसी भी रत्न को पहनने से पहले ज्योतिष परामर्श अवश्य लें।

‘इस लेख में निहित किसी भी जानकारी या विश्वसनीयता की गारंटी नहीं है। विभिन्न माध्यमों से संग्रहित कर ये जानकारियां आप तक पहुंचाई गई हैं। हमारा उद्देश्य महज सूचना पहुंचाना है इसके अतिरिक्त, इसके किसी भी उपयोग की जिम्मेदारी स्वयं उपयोगकर्ता की ही रहेगी।’

क्या आपने इसे पढ़ा:

error: Content is protected !!