WATCH VIDEO: प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने की वरिष्ठ नेता लालकृष्ण आडवाणी की तारीफ कहा- परिवारवाद की राजनीति को दी चुनौती

प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने शनिवार को कहा कि भारतीय जनता पार्टी (भाजपा) के वरिष्ठ नेता लालकृष्ण आडवाणी ने परिवारवाद की राजनीति को चुनौती दी और ‘राजनीतिक रूप से अछूत’ पार्टी होने की इसकी पहचान बदलकर इसे विश्व का सबसे बड़ा राजनीतिक दल बनाया. ओडिशा के संबलपुर में एक रैली को संबोधित करते हुए मोदी ने कहा कि पूर्व प्रधानमंत्री अटल बिहारी वाजपेयी के साथ-साथ पूर्व उपप्रधानमंत्री आडवाणी ने भी भारत के लोकतंत्र को सर्व-समावेशी और राष्ट्रवादी विचारधाराओं से जोड़ा.

उन्होंने कहा कि आडवाणी को भारत रत्न ‘राष्ट्र प्रथम’ की विचारधारा का सम्मान है और देश के करोड़ों भाजपा कार्यकर्ताओं एवं नेताओं को भी मान्यता है. मोदी ने कहा, ‘‘यह पार्टी की विचारधाराओं और पार्टी के करोड़ों कार्यकर्ताओं के संघर्ष को मान्यता है. यह पार्टी और इसके कार्यकर्ताओं को भी सम्मान है, जो (भाजपा) दो सांसदों की पार्टी से विश्व की सबसे बड़ी पार्टी बन गई.’’ उन्होंने कहा, ‘‘आडवाणी एक पार्टी के चंगुल से लोकतंत्र को मुक्त कराने के लिए लगातार लड़े और हर किसी का मार्गदर्शन किया. उन्होंने परिवारवाद की राजनीति को चुनौती दी और भारत के लोकतंत्र को सर्व-समावेशी एवं राष्ट्रवादी विचारधाराओं से जोड़ा.’’

प्रधानमंत्री ने कहा कि उनकी (मोदी की) गारंटी ‘‘गारंटियों की गारंटी है, क्योंकि उनकी सरकार देशभर के असहाय लोगों की अंतिम उम्मीद है.’’ उन्होंने ओडिशा के लोगों को आश्वस्त किया कि उनकी पार्टी राज्य और इसके लोगों का विकास सुनिश्चित करेगी. उन्होंने कहा कि हालिया बजटीय प्रावधान युवा, महिलाएं, गरीब, किसानों और आदिवासियों सहित समाज के सभी तबकों के विकास के लिए गारंटी प्रदान करते हैं.

इसे भी पढ़ें:  Fire Video: फैक्ट्री में लगी भीषण आग, मौके पर दमकल की टीम मौजूद, काबू पाने की कोशिश जारी

प्रधानमंत्री ने कहा, ‘‘मोदी की गारंटी का मतलब गारंटी पूरा होने की गारंटी है.’’ उन्होंने कहा कि ‘पीएम-किसान सम्मान निधि’ योजना के तहत ओडिशा में करीब 40 लाख कृषकों सहित करोड़ों किसानों को सीधे फायदा मिला. उन्होंने कहा कि ओडिशा के किसानों को पीएम किसान योजना के तहत उनके बैंक खातों में 30,000 रुपये प्राप्त हुए. किसानों के विकास का एक उदाहरण देते हुए मोदी ने कहा कि 2014 से पहले सरकार ओडिशा से न्यूनतम समर्थन मूल्य (एमएसपी) के तहत 36,000 करोड़ रुपये के धान खरीदती थी, जबकि मौजूदा सरकार ने राज्य से 1.10 लाख करोड़ रुपये की धान खरीदी है. 

देखे विडियो  :- 

क्या आपने इसे पढ़ा:

error: Content is protected !!