CAR CARE TIPS: सर्दियों के मौसम में कार में चलाते हैं हीटर …….. न करें यह भूल …….. रखें इन बातों का ध्यान

अगर आप भी सर्दियों के मौसम में कार में हीटर का उपयोग करते हैं, तो किन बातों के कारण जान पर खतरा बढ़ जाता है। आइए जानते हैं।सर्दियों के मौसम में अक्सर लोग कार में हीटर का उपयोग करते हैं। लेकिन कुछ लापरवाहियों के कारण हीटर का उपयोग करना सेहत और जान पर भारी पड़ जाता है। हम इस खबर में आपको कुछ ऐसी जानकारी दे रहे हैं, जिनके कारण कार में हीटर का उपयोग करना समस्या बढ़ा सकता है।

हीटर का होता है उपयोग

सर्दियों के मौसम में कार से सफर के दौरान लोग केबिन को गर्म रखने के लिए हीटर का उपयोग करते हैं। लेकिन काफी कम लोग ही इस बात को जानते हैं हीटर को सही तरह से कैसे उपयोग किया जाता है। ऐसे में ज्यादातर लोग कुछ लापरवाही कर देते हैं, जिससे जान पर खतरा बढ़ जाता है।

न करें इस बटन का उपयोग

सर्दियों के समय जब कार में सफर के दौरान हीटर का उपयोग किया जाता है। तब कभी भी एयर सर्कुलेशन के बटन का उपयोग नहीं करना चाहिए। इस बटन के उपयोग के कारण कार के केबिन की हवा अंदर ही रहती है और बाहर से ताजी हवा अंदर नहीं आती। जिससे कुछ समय बाद केबिन के अंदर की गर्म हवा विषैली होने लगती है जो शरीर पर बुरा असर करती है।

केबिन बन सकता है गैस चैंबर

सर्दियों के समय जब हीटर का उपयोग किया जाता है, तब लापरवाही के कारण कार का केबिन गैस चैंबर बन सकता है। कार को स्टार्ट किया जाता है जिसके बाद कई तरह की विषैली गैस निकलती हैं। हीटर का उपयोग करने पर कई बार यह गैस केबिन में आ जाती हैं। लगातार ऐसे वातावरण में रहने के कारण दम भी घुट सकता है।

इसे भी पढ़ें:  SURGUJA: हिट एंड रन का नया कानून अभी लागू नहीं..............कलेक्टर तथा पुलिस अधीक्षक ने वास्तविक स्थिति की दी जानकारी........किसी प्रकार की अफवाह में नहीं आने के लिए की अपील

करें यह काम

अगर आप भी सर्दियों में कार में हीटर का उपयोग करते हैं, तो दो तरह से सुरक्षित सफर कर सकते हैं। हमेशा इस बात का ध्यान रखें कि कार में हीटर चलाने के साथ ही हल्का शीशा भी खोलें। ऐसा करने से विषैली गैस बाहर निकल जाएंगी। वहीं दूसरी ओर कार में री-सर्कुलेशन के बटन का उपयोग न करें। इस तरह से भी कार में लगातार बाहर से ताजी हवा अंदर केबिन में आएगी और केबिन की खराब हवा बाहर निकल जाएगी।

री-सर्कुलेशन मोड का उपयोग करना है खतरनाक


हीटर चलाने के बाद ज्यादातर लोग हवा को बाहर नहीं निकालते और री-सर्कुलेशन मोड का उपयोग करते हैं। जिससे वही हवा अंदर रह जाती है और बार-बार कार के अंदर घूमती रहती है। काफी समय बाद जब हवा विषैली हो जाती है तो शरीर पर बुरा असर डालती है।

क्या आपने इसे पढ़ा:

error: Content is protected !!