Gujarat Riots: सुप्रीम कोर्ट ने गुजरात दंगे से सम्बंधित एक मामले में प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी को मिली क्लीन चिट को रखा बरकरार. . . . खारिज की याचिका

दोस्तों के साथ इस समाचार को शेयर करें:

सुप्रीम कोर्ट ने 2002 गुजरात दंगों से संबंधित एक मामले में राज्य के तत्कालीन मुख्यमंत्री और मौजूदा प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी को मिली क्लीन चिट को बरकरार रखा है।ये मामला कांग्रेस के पूर्व सांसद एहसान जाफरी की हत्या से संबंधित है। उनकी पत्नी जकिया जाफरी ने मोदी की क्लीन चिट को बरकरार रखने के गुजरात हाई कोर्ट के फैसले के खिलाफ सुप्रीम कोर्ट में याचिका दायर की थी।सुप्रीम कोर्ट ने उनकी इस याचिका को खारिज कर दिया है।

पूर्व कांग्रेस सांसद एहसान जाफरी की गुजरात दंगों के दौरान 28 फरवरी, 2002 को अहमदाबाद की गुलबर्ग सोसाइटी में हुई सांप्रदायिक हिंसा में हत्या कर दी गई थी। इस हिंसा में हिंदू भीड़ ने उनके अलावा 68 अन्य मुस्लिमों की भी हत्या कर दी गई थी।इन लोगों ने भीड़ से बचने के लिए जाफरी के घर में शरण ली थी। हिंसा के दौरान जाफरी ने कई बार शीर्ष पुलिस अधिकारियों और नेताओं को फोन किया, लेकिन मदद नहीं पहुंची।

सुप्रीम कोर्ट द्वारा गठित विशेष जांच दल ने गुलबर्ग सोसाइटी हिंसा की जांच की थी। SIT ने फरवरी, 2012 में अहमदाबाद की मजिस्ट्रेट कोर्ट में क्लोजर रिपोर्ट दाखिल करते हुए मोदी समेत 64 आरोपियों को सबूतों के अभाव में क्लीन चिट दी थी।जकिया जाफरी ने 2014 में गुजरात हाई कोर्ट में इस क्लोजर रिपोर्ट के खिलाफ याचिका दायर की, जिसने 2017 में उनकी याचिका को खारिज कर दिया।इसके बाद जकिया ने सुप्रीम कोर्ट में याचिका डाली थी।

अम्बिकापुरसिटी.कॉम: हमारे व्हाट्सप्प ग्रुप को ज्वाइन करें | हमारे टेलीग्राम ग्रुप को ज्वाइन करें | ट्विटर पर हमें फॉलो करें | हमारे फेसबुक ग्रुप को ज्वाइन करें | हमारे फेसबुक पेज को लाइक करें |

इसे भी पढ़ें:  Navneet Rana Bail: सांसद नवनीत राणा और उनके पति रवि राणा को हनुमान चालीसा विवाद में मिली जमानत. . . . कुछ देर में हो सकती है रिहा

 

इसे भी पढ़ें