CHHATTISGARH: राज्य में परख परीक्षा से छात्रों के भाषा-गणित ज्ञान का किया गया आंकलन…………..तीसरी-छठीं और नौंवी कक्षा के 2,38,630 विद्यार्थी हुए शामिल

नई शिक्षा नीति 2020 के अंतर्गत विद्यार्थियों की सीखने की क्षमता को जानने के लिए केंद्र शासन (एनसीईआरटी) के निर्देश पर स्कूल शिक्षा विभाग (एससीईआरटी रायपुर) द्वारा पिछले दिनों राज्य भर में शैक्षिक उपलब्धि सर्वेक्षण किया गया। एससीईआरटी द्वारा शैक्षणिक सत्र 2023-24 में पहली बार ब्लॉक स्तर के स्कूलों को राज्य शिक्षा उपलब्धि सर्वे में शामिल किया था। 

सर्वेक्षण में क्या

इस सर्वेक्षण के तहत तीसरी कक्षा के छात्रों का बुनियादी साक्षरता, अंकगणित, छठी के छात्रों का भाषा, गणित, पर्यावरण शिक्षा और नौवीं के छात्रों का भाषा, गणित, विज्ञान और सामाजिक विज्ञान में ज्ञान को जांचा गया। यह सर्वेक्षण प्रश्नावली के माध्यम से किया गया। इस सर्वेक्षण को डीएलएड प्रशिक्षुओं और बीएड प्रशिक्षुओं की सहायता से आयोजित किया गया। राष्ट्रीय शिक्षा नीति (एनईपी), 2020 के तहत परख परीक्षा का आयोजन किया गया। 

यह एनसीईआरटी के संगठन परख PARAKH (परफॉर्मेंस असेसमेंट, रिव्यू एंड एनालिसिस ऑफ नॉलेज फॉर होलिस्टिक डेवलपमेंट) द्वारा आयोजित पहला सर्वेक्षण था। इस सर्वेक्षण के जरिये तीसरी और छठीं कक्षा के छात्रों में भाषा और गणित की बुनियादी समझ को परखा जा रहा है। साथ ही नौंवी कक्षा के छात्रों की परीक्षा से पता चलेगा कि वे अपनी कक्षा में कितना सीख पा रहे हैं। परीक्षा रिपोर्ट के आधार पर भविष्य में स्कूली शिक्षा में जरूरी बदलाव पर फोकस किया जाएगा। क्योंकि इसके माध्यम से पता चलेगा कि छात्रों में उनकी उम्र और कक्षा के आधार पर कितनी समझ विकसित हो पा रही है। इस सर्वेक्षण के दौरान उनकी कक्षा से लेकर पूर्व की कक्षाओं तक में दी गई शिक्षा के बारे में प्रश्न पूछे गये। परख परीक्षा शिक्षा मंत्रालय के राष्ट्रीय उपलब्धि सर्वेक्षण से मिलती-जुलती है। हालांकि उसमें विषय अधिक होते हैं।

इसे भी पढ़ें:  SURGUJA: मैनपाट के ग्रामीणों को उत्तरप्रदेश के बागपत में बनाया गया था बंधक..............जिला प्रशासन द्वारा बागपत प्रशासन से किया गया तत्काल सम्पर्क.............सभी ग्रामीण सकुशल आ रहे हैं वापस

सर्वेक्षण कब हुआ

 भारत शासन के मानव संसाधन विकास मंत्रालय के दिशा-निर्देश पर सभी राज्यों में तीसरी, छठीं और नौंवी कक्षा के छात्रों के भाषा एवं गणित ज्ञान का पता लगाने के लिए परीक्षा का आयोजन 3 नवंबर को किया जाना था, किन्तु छत्तीसगढ़ में आदर्श आचार संहिता (MCC) लागू होने के कारण तथा शिक्षकों की चुनाव ड्यूटी होने के कारण छत्तीसगढ़ में चुनाव पश्चात 13 दिसंबर, 2023 को यह सर्वेक्षण किया गया । 

छत्तीसगढ़ में कितने विद्यार्थियों का सर्वेक्षण हुआ

इस परख सर्वेक्षण में में देशभर के 4.8 लाख से अधिक सरकारी और निजी स्कूलों के 1,12,72,836 छात्रों ने पंजीकरण कराया था। इसी तरह छत्तीसगढ़ के 8664 केंद्रीय, शासकीय, अनुदान प्राप्त तथा निजी विद्यालयों के 2,38,630 छात्रों का सर्वेक्षण किया गया ।

परीक्षा कैसे हुई ?

एक से डेढ़ घंटे की परीक्षा हुई। कक्षा तीसरी की परीक्षा एक घंटे यानी 60 मिनट की। इसमें गणित और भाषा विषय में से कुल 40 प्रश्न पूछे गये। जबकि कक्षा छठीं की परीक्षा 75 मिनट की थी। इसमें गणित और भाषा विषय में 50 प्रश्न पूछे गये। वहीं, कक्षा नौंवीं की परीक्षा में छात्रों को 90 मिनट का समय मिला। इसमें कुल 60 प्रश्न पूछे गये ।

सर्वेक्षण में छत्तीसगढ़ के शामिल स्कूल और विद्यार्थी

छत्तीसगढ़ के 8664 स्कूलों में 2,38,630 छात्रों का सर्वेक्षण किया गया। इसमें तीसरी कक्षा में 3036 स्कूल और 77102 छात्र पंजीकृत थे। छठीं कक्षा में 2710 स्कूल और 77,352 छात्र और नौंवी कक्षा में 2918 स्कूल और 84, 176 छात्र पंजीकृत थे। इस सर्वेक्षण, आंकलन का परिणाम एवं निष्कर्ष केंद्र शासन, एनसीईआरटी द्वारा निकट भविष्य में जारी किया जायेगा।

इसे भी पढ़ें:  PARLIAMENT: लोकसभा में पेश हो सकता है टेलीकम्युनिकेशन बिल ....... इसी साल जारी किया गया था प्रस्ताव का मसौदा

क्या आपने इसे पढ़ा:

error: Content is protected !!